पवनमुक्तासन Pawanmuktasana एक योग मुद्रा है। पवनमुक्तासन का अभ्यास एक प्राचीन योग मुद्रा है, जिसका उपयोग सदियों से किसी की आंतरिक ऊर्जा से जुड़ने और शांति की भावना विकसित करने के लिए किया जाता रहा है। इसे एक झुके हुए मोड़ के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जो मन को स्थिर करते हुए पूरे शरीर को संलग्न करता है।

Pawanmuktasana संस्कृत के दो शब्दोंसे मिलकर बना है। पवन का अर्थ है हवा(Air) और मुक्त का अर्थ छोडना (release) है। उसके नाम से ही स्पष्ट है।

Pawanmuktasana क्या है?

Pawanmuktasana को ही मराठी में “वारा-निवारन मुद्रा” और संस्कृत में “पवनमुक्तासन” के रूप में भी जाना जाता है। अपनासन को ही अंग्रेजी में “knee to chest pose” कहा जाता है। यह आमतौर पर योग अभ्यास के दौरान एक आराम देने वाली मुद्रा के रूप में उपयोग किया जाता है और यह उन लोगों के लिए एक उत्कृष्ट विकल्प है जो शरीर में तनाव के स्तर को कम करना चाहते हैं।

यह आपकी पीठ के बल लेटने से शुरू होता है, आपके घुटने आपकी छाती की ओर झुकते हैं, आपके और आपके पैरों के बीच एक आलिंगन जैसी गति पैदा करते हैं। इस स्थिति से, आप अपने हाथों को अपने पेट क्षेत्र पर धीरे से दबाते हुए अपनी नाभि को अपनी रीढ़ की ओर खींच सकते हैं। यह सरल लेकिन प्रभावी गतिविधि उदर क्षेत्र के माध्यम से ऊर्जा चैनलों को खोलने में मदद करती है और आसपास की सभी मांसपेशियों को आराम देती है।

Pawanmuktasana करणे का सही तरीका

यह चरण-दर-चरण मार्गदर्शिका आपको पवनमुक्तासन Pawanmuktasana मुद्रा को सही तरीके से करने के मूल सिद्धांतों के बारे में बताऊंगी ।

pawanmuktasana
google

 

  • सबसे पहले योगा मैट पर शवासन मुद्रा में लेट जाएं।
  • अपने पैरों को फर्श पर सपाट और घुटनों के बल झुककर अपनी पीठ के बल लेट कर शुरुआत करें।
  • अपने घुटनों को मोड़ें और उन्हें अपनी छाती के करीब लाएं और अपनी बाहों को अपने घुटनों के चारों ओर लपेट लें।
  • विपरीत कोहनी, कलाई या उंगलियों से एक दूसरे को पकड़ें और सर को थोडा उपर की तरफ करे।
  • अपने सिर को अपनी छाती के समानांतर अपनी ठुड्डी के साथ फर्श पर रखें और अपने हाथों से अपने घुटनों को अपनी छाती की ओर खींचते हुए अपनी पीठ और टेलबोन को नीचे फर्श पर दबाने की कोशिश करें।
  • शरीर के निचले हिस्से यानी पीठ और रीढ़ की हड्डी को सपाट रखने की कोशिश करें।
  • कूल्हों और पैरों को आराम दें।
  • एक गहरी सांस लें और फिर आसन में रहते हुए धीमी सांस को जारी रहने दें।
  • साँस छोड़ते हुए हाथों और पैरों को नीचे लाएँ और प्रारंभिक स्थिति में वापस आ जाएँ।

Yoga for Better Breathing: Apanasana” in english

पवनमुक्तासन के लाभ:

♦ Pawanmuktasana एक शक्तिशाली योग मुद्रा है जो शारीरिक तनाव और मानसिक तनाव को कम करने में मदद करती है।

♦ पवनमुक्तासन यह स्फूर्तिदायक मुद्रा सूजन को कम करने में मदद करती है और आंतरिक संतुलन बनाते हुए तंत्रिका तंत्र को शांत करती है।

♦ Pawanmuktasana  पाचन तंत्र के लिए एक बेहतरीन मुद्रा है और स्वस्थ पाचन को बढ़ावा दे सकता है।

♦ यह आसन गहरी सांस लेने को प्रोत्साहित करता है जो तंत्रिका तंत्र को शांत करने और आंतरिक शांति की भावना को बढ़ावा देने में मदद करता है।

♦ ये आसन तनाव को दूर करने के लिए प्रयोग किया जाता है पीठ के निचले हिस्से और पेट में तनाव।

Pawanmuktasana कि भिन्नता:

अल्टरनेटिव पोज़ वैकल्पिक पोज़ जैसे Pawanmuktasana या wind relieving pose के लिए एक व्यापक गाइड है। यह लेख पाठकों को इस क्लासिक योग आसन के विभिन्न रूपों के साथ प्रदान करेगा, जिससे वे अपने शरीर के विभिन्न हिस्सों को लक्षित कर सकते हैं और मुद्रा के पूर्ण लाभ उठा सकते हैं। इस लेख में प्रस्तुत विविधताएं शुरुआत से लेकर अधिक उन्नत स्तरों तक हैं।

पवनमुक्तासन एक सामान्य योग मुद्रा है, जो परंपरागत रूप से भारत में योगियों द्वारा शरीर में तनाव और तनाव को दूर करने के लिए किया जाता है। यह आरामदायक मुद्रा अक्सर काम पर या शाम को सोने से पहले एक लंबे और तनावपूर्ण दिन के बाद की जाती है।

पहला संशोधन आपकी पीठ के बल लेट कर किया जाता है और एक घुटने को छाती से लगाकर दूसरे पैर को सीधे फर्श पर रखा जाता है। फिर आप अपने मुड़े हुए घुटनों को जितना संभव हो सके गले लगाएं और अपनी पीठ के निचले हिस्से को फर्श पर दबाएं और गहरी सांस लें। यह आपके कूल्हों में लचीलापन बढ़ाने में मदद करेगा, जिससे आसन आसान हो जाएगा।

pawanmuktasana
google

पवनमुक्तासन के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां:

पवनमुक्तासन एक योग मुद्रा है जो कमर दर्द से पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद हो सकती है। यह तनाव को कम करने में मदद करता है और रीढ़ के समग्र स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है। हालाँकि, कुछ चिकित्सकों को यह मुद्रा कठिन लग सकती है। सौभाग्य से, कुछ ऐसे संशोधन उपलब्ध हैं जो किसी के लिए भी पवनमुक्तासन करना आसान बनाते हैं।

  1. सबसे पहले, किसी भी प्रकार की चोट या चिकित्सीय स्थिति वाले लोगों को अपानासन करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।
  2. यदि आपको पेट में दर्द या तीव्र हर्निया है तो इस स्थिति से बचना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।
  3.  गर्भवती महिलाओं को बिना डॉक्टर की अनुमति के पवनमुक्तासन नहीं करना चाहिए।

 अपनासन (Apanasana) in marathi

निष्कर्ष:

Pawanmuktasana एक सरल मुद्रा है जो शांति की भावना को बढ़ावा देती है जो तंत्रिका तंत्र को शांत करके शरीर और मन दोनों में तनाव के स्तर को कम करने में मदद करती है। मुद्रा कोर को भी मजबूत करती है, जिससे आसन, संतुलन, लचीलापन और समन्वय में सुधार होता है।इसके अतिरिक्त, नियमित अभ्यास लंबे समय तक बैठने या खड़े होने से थकान को कम करते हुए पाचन में सुधार करने में मदद कर सकता है। कुल मिलाकर, पवनमुक्तासन Pawanmuktasana सभी अनुभव स्तरों के अभ्यासियों के लिए एक सुलभ आसन है जो उन लोगों को कई लाभ प्रदान करता है जो इसे अपने योग अभ्यास में एकीकृत करने के लिए समय लेते हैं।

किसी भी आसन का अभ्यास करने से पहले उसकी सही विधि जान लेना आवश्यक है अन्यथा आपको आसन का पूरा लाभ नहीं मिल पाएगा।

One thought on “Pawanmuktasana”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *