Parivrtta Trikonasana

परिव्रत त्रिकोणासन Parivrtta Trikonasana क्या है?

परिव्रत त्रिकोणासन Parivrtta Trikonasana को अंग्रेजी में “Revolved Triangle pose” कहा जाता है। जब परिव्रत त्रिकोणासन को विभाजित किया जाता है, तो परिव्रत का अर्थ है ‘चारों ओर मुड़ा हुआ या घुमावदार’ और त्रिकोणासन का अर्थ है ‘त्रिकोणासन करते समय शरीर का आकार गणितीय त्रिकोण जैसा हो जाता है’, इस आसन को त्रिकोणासन कहा जाता है।

यह एक स्थायी योग मुद्रा है जो पेट की मांसपेशियों को टोन करती है और संतुलन में सुधार करती है। परिव्रत त्रिकोणासन Parivrtta Trikonasana मुद्रा को तनाव कम करने और पाचन में सुधार करने के लिए भी कहा जाता है।

मुद्रा करने के लिए, माउंटेन पोज़ में पैरों को एक साथ रखकर शुरू करें। अपने बाएँ पैर को लगभग चार फीट पीछे ले जाएँ, फिर अपने बाएँ पैर को 90 डिग्री बाहर घुमाएँ ताकि आपके पैर की उँगलियाँ बाईं ओर इंगित करें। अपनी दाहिनी एड़ी को अपने बाएं पैर के आर्च के साथ संरेखित करें।

इस आसन को करने के लिए सबसे पहले पैरों को मिलाकर माउंटेन पोज में बैठ जाएं। अपने बाएँ पैर को लगभग चार फीट पीछे ले जाएँ, फिर अपने बाएँ पैर को 90 डिग्री बाहर घुमाएँ ताकि आपके पैर की उँगलियाँ बाईं ओर हों। अपनी दाहिनी एड़ी को अपने बाएं पैर के आर्च के साथ संरेखित करें।

परिव्रत त्रिकोणासन कैसे करें?

कई लोगों के लिए, परिवृति त्रिकोणासन Parivrtta Trikonasana का सबसे कठिन हिस्सा मुद्रा में आ रहा है। यहाँ कुछ सुझाव दिए गए हैं कि कैसे पोज़ दें:

Parivrtta Trikonasana (1)

  • सबसे पहले योगा मैट पर ताड़ासन योग मुद्रा में खड़े हो जाएं।
  • गहरी सांस लें और दोनों पैरों को दोनों तरफ ले जाएं और दोनों पैरों के बीच तीन से साढ़े तीन फीट की दूरी रखें।
  • दोनों भुजाओं को आकाश की ओर उठाएं और हथेलियों को जमीन की ओर मोड़ते हुए कंधों की सीध में ऊपर लाएं।
  • बाएँ पैर को 90 अंश बाएँ घुमाएँ, दाएँ पैर को 60 अंश बाएँ घुमाएँ।
  • दाहिना पैर सीधा और घुटने पर मुड़ा होना चाहिए।
  • साँस छोड़ते हुए शरीर को बायें पैर के साथ विपरीत दिशा में मोड़ें, दायीं हथेली को बायें पैर के बाहरी किनारे के पास फर्श पर रखें।
  • बाएं हाथ को दाएं हाथ की सीध में उठाएं और बाएं हाथ के अंगूठे पर ध्यान केंद्रित करें।
  • घुटनों को मजबूती से मोड़कर रखें, याद रखें कि दाहिने पैर के बाहरी किनारे को फर्श पर मजबूती से रखें।
  • दोनों कंधों को फैलाना चाहिए।
  • सांस को हमेशा की तरह चलने दें।
  • इस स्थिति में आधा मिनट तक रहें।
  • सांस लें दाहिने पैर को फर्श से उठाएं और प्रारंभिक स्थिति में लौट आएं।
  • वही आसन फिर से विपरीत दिशा में करें।

परिव्रत त्रिकोणासन करने के फायदे

परिवृत्त त्रिकोणासन Parivrtta Trikonasana के कई फायदे हैं। आइए परिवृत्त त्रिकोणासन के लाभों को इस प्रकार जानते हैं

♦ परिवृत्त त्रिकोणासन एक खड़ी योग मुद्रा है। यह आसन संतुलन और समन्वय को बेहतर बनाने में मदद करता है।

♦ यह स्थिति रीढ़ की हड्डी को लंबा और फैलाती है, जो पीठ दर्द को कम करने में मदद करती है।

♦ इसके अलावा, पेट के अंग घुमा आंदोलन से उत्तेजित होते हैं।

♦ परिवृत्त त्रिकोणासन तनाव और तनाव सिरदर्द को दूर करने में भी मदद कर सकता है।

♦ परिव्रत त्रिकोणासन के नियमित अभ्यास से टखनों, जांघों और घुटनों को मजबूती मिलती है। इससे टखनों, जांघों, कंधों, कूल्हों, पसलियों, हैमस्ट्रिंग, छाती पर तनाव पड़ता है।

परिवृत्त त्रिकोणासन परिवृत्त त्रिकोणासन का रूपांतर:

परिव्रत त्रिकोणासन Parivrtta Trikonasana के रूप इस प्रकार हैं

परिव्रत त्रिकोणासन या “Revolved Triangle pose” इस मूल योग मुद्रा को शुरुआत से लेकर उन्नत तक किसी भी स्तर के व्यवसायी के अनुरूप संशोधित किया जा सकता है।

शुरुआती लोगों के लिए, मुद्रा के मूल संस्करण से शुरू करने की सलाह दी जाती है। वहां से, जैसे-जैसे आपका अभ्यास आगे बढ़ेगा आप धीरे-धीरे अधिक उन्नत संशोधन जोड़ सकते हैं। उदाहरण के लिए, आप समर्थन के लिए अपनी निचली भुजा के नीचे एक ब्लॉक जोड़कर प्रारंभ कर सकते हैं। जैसे-जैसे आप मुद्रा के साथ अधिक सहज होते जाते हैं, आप ब्लॉक को अपने शरीर के करीब तब तक ले जा सकते हैं जब तक आपको इसकी आवश्यकता महसूस न हो।

Parivrtta Trikonasana 2
GOOGLE

अधिक उन्नत चिकित्सक अपनी ऊपरी भुजा को फर्श पर और निचली भुजा को अपने पिछले कूल्हे पर रखकर मोड़ को गहरा करना चाह सकते हैं। वे अधिक चुनौतीपूर्ण बदलाव के लिए अपने पिछले पैर को हवा में किक करना भी चुन सकते हैं। अपने पैरों को सीधे अपने सामने फैलाकर बैठने की स्थिति में शुरुआत करें। अपने दाहिने घुटने को मोड़ें और अपने बाएं पैर को फर्श पर सपाट रखें, अपनी दाहिनी एड़ी को अपनी जांघ के जितना करीब हो सके रखें।

निष्कर्ष

परिव्रत त्रिकोणासन Parivrtta Trikonasana आपके संतुलन और लचीलेपन में सुधार करने का एक शानदार तरीका है। यह मुद्रा पहली बार में चुनौतीपूर्ण हो सकती है, लेकिन अभ्यास से आप इसमें महारत हासिल कर लेंगे। अपने शरीर को सुनना याद रखें और मुद्रा के दौरान गहरी सांस लें।

किसी भी आसन का अभ्यास करने से पहले उसकी सही विधि जान लेना आवश्यक है अन्यथा आपको आसन का पूरा लाभ नहीं मिल पाएगा।

 परिव्रत त्रिकोणासन को मराठी मै जानणे के लिये विझिट करे Parivrtta Trikonasana

Leave a Comment