मार्जरासन कैसे करे?

सृष्टि में इन विभिन्न चीजों से सीखने के लिए बहुत कुछ है, यह करने के लिए सभ्य बात है, और इसे वहीं समाप्त होना चाहिए। आप इस लेख में पालतू जानवरों से कुछ सीखेंगे।

मार्जरासन महत्वपूर्ण आसनों में से एक है। मार्जरासन को अंग्रेजी में कैट पोज (cat pose) के नाम से भी जाना जाता है। मार्जरासन करने के लिए उम्र का कोई बंधन नहीं है, इसलिए इस आसन को किसी भी उम्र के लोग बहुत आसानी से कर सकते हैं। हालांकि इस आसन को करना आसान है, और  इसके कई फायदे हैं।

मार्जरासन में व्यक्ति को बिल्ली की तरह शरीर की हलचल करनी पड़ती है। कैट वॉक की अवधारणा बहुत लोकप्रिय थी, हम मार्जरासन मुद्रा को भी देखेंगे, जो बिल्ली से संबंधित योगासन में से एक है। आइए जानें हिंदी में मार्जरासन कैसे करे? इस प्रकार है⇒

marjariasana
google

मार्जरासन क्या है?

हम अपने घर मै प्यार से एक पालतू जानवर रखते है वह बिल्ली है। बिल्ली की हरकतों को करीब से देखने पर पता चलता है कि बिल्ली अपना शरीर फैलाती (तणाव) है, जिससे  नाम दिया गया आया है।

मार्जरासन एक संस्कृत शब्द है। मार्जरीआसन को दो भागों में बांटा गया है, “मार्जरा” और “आसन”। मार्जरा का अर्थ है बिल्ली की तरह शरीर का तनाव और आसन का अर्थ है स्थिति इसलिए इसे मार्जरीआसन कहा जाता है।

मार्जरासन करने का सही तरीका

  • मार्जरासन करते समय सबसे पहले योगा मैट पर बैठ जाएं, फिर अपने घुटनों को योग मैट पर रखें और सीधा रखें।
  • अपने हाथों को सीधे अपने सामने रखते हुए, योगा मैट पर झुक जाएं।
  • अपने हाथों को सीधे अपने सामने रखते हुए, योगा मैट पर झुक जाएं।
  • अब कलाई पर शरीर का भार लगाकर धीरे-धीरे पीछे के हिस्से (नितंबों) को ऊपर उठाएं।
  • जब आप नितंबों को उठाएंगे तो आपकी दोनों जांघें एक सीधी रेखा में होंगी और आपके घुटनों के बीच 90 डिग्री का कोण बनेगा।
  • इस बैठने की स्थिति में आपकी छाती जमीन के समानांतर होगी और आपका शरीर बिल्ली जैसा दिखेगा।
  • अब गहरी सांस लें। गहरी सांस लेते हुए ठुड्डी को ऊपर उठाएं और सिर को पीछे की ओर ले जाएं। नाभि को नीचे की ओर और रीढ़ को ऊपर की ओर खींचे।
  • इस बैठने की स्थिति में कुछ देर रुकें। श्वास धीमी होनी चाहिए।
  • श्वास धीमी होनी चाहिए।
  • धीरे-धीरे सामान्य स्थिति में लौट आएं।
  • इस क्रिया को 5-6 बार या जितना हो सके अपने शरीर में करें।
  •  शुरुआत में इस आसन को करना मुश्किल हो सकता है लेकिन नियमित अभ्यास से यह आसानी से संभव हो जाता है।

टिप- योग अभ्यासियों के अनुसार, जब आप इस क्रिया को धीरे-धीरे और शालीनता से करते हैं, तो आप शरीर पर अधिक लाभकारी प्रभाव देखेंगे।

मार्जरासन करने से शरीर को होते हैं कई फायदे, आइए जानें  मार्जरासन कैसे करे? और इसके फायदे आगे दिये गये है

मार्जरासन करने के फायदे

♦ कंधों और कलाइयों को मजबूत करता है।

♦ पाचन में सुधार करता है।

♦ रीढ़ और रीढ़ की हड्डी पर तनाव होने से पीठ की कई समस्याएं दूर होती हैं।

रक्त परिसंचरण मै सुधार करता है।

♦ शरीर स्वस्थ रहता है और मन शांत और प्रसन्न रहता है।

How to Do the Marjariasana for a Toned and Strong Core

मार्जरासन करते समय बरती जाने वाली सावधानियाँ

  1. अगर आपको पीठ, गर्दन या रीढ़ की समस्या है तो मार्जरीन न करें।
  2. बैठते समय हाथ के कोनों को न मोड़ें, इस पर ध्यान दें।

निष्कर्ष

यदि आप अपनी फिटनेस बढ़ाने का तरीका ढूंढ रहे हैं, तो आप मार्जरासन  करने का विचार कर सकते हैं। जब मार्जरासन ठीक से किया जाता है, तो लचीलेपन में सुधार करते हुए ताकत और सहनशक्ति बनाने का यह एक प्रभावी और सुरक्षित तरीका हो सकता है। अगली बार जब आप कक्षा में हों, तो इस आसन को देखें और अपने प्रशिक्षक से पूछें कि क्या आप कोशिश कर सकते हैं।

किसी भी आसन का अभ्यास करने से पहले उसकी उचित विधि जान लेना आवश्यक है ,नहीं तो आपको आसन का पूरा फायदा नहीं मिलता।

marjariasana in marathi 

1 thought on “मार्जरासन कैसे करे?”

Leave a Comment