happy baby pose in hindi

आनंद बालासन मुद्रा, जिसे हैप्पी बेबी पोज़ (Happy baby pose)  के रूप में भी जाना जाता है, एक लोकप्रिय योग मुद्रा है जिसमें आपकी पीठ के बल लेटना और दोनों पैरों को अपने हाथों से पकड़ना शामिल है। इस मुद्रा का नाम गर्भ में पल रहे शिशु के समान दिखने के कारण रखा गया है। यह शुरुआती लोगों के लिए अनुकूल योग मुद्रा है, जिसे कोई भी कर सकता है, भले ही उनकी उम्र या फिटनेस का स्तर कुछ भी हो।

आनंद बालासन के इतिहास का पता पारंपरिक हठ योग प्रथाओं से लगाया जा सकता है, जो 5,000 साल से अधिक पुराने हैं। इसे मूल रूप से शीर्षासन मुद्रा ( headstand pose )जैसे अधिक जटिल आसनों के लिए प्रारंभिक मुद्रा के रूप में विकसित किया गया था। समय के साथ, आनंद बालासन शरीर और मन दोनों के लिए अपने कई लाभों के कारण अपने स्वयं के स्वतंत्र अभ्यास में विकसित हुआ

आनंद बालासन मुद्रा क्या है?

happy baby pose hindi
google

आनंद बालासन, जिसे Happy baby pose के रूप में भी जाना जाता है, एक लोकप्रिय योग मुद्रा है जो सदियों से चली आ रही है। आनंद बालासन नाम संस्कृत भाषा से लिया गया है, जहाँ “आनंद” का अर्थ है आनंद और “बालासन” का अर्थ है बच्चे की मुद्रा। यह आसन अभ्यास करने वालों को गहरी सांस लेने और मांसपेशियों को आराम देने के लिए प्रोत्साहित करके उनके दिमाग और शरीर को आराम देने में मदद करने के लिए बनाया गया है।

आज, दुनिया भर में योग के विभिन्न रूपों में आनंद बालासन का व्यापक रूप से अभ्यास किया जाता है। यह तंत्रिका तंत्र को शांत करने, ग्लूट्स और पीठ के निचले हिस्से को फैलाने, पाचन में सुधार करने और बेहतर नींद लाने की क्षमता के लिए सभी स्तरों के योगियों के बीच एक लोकप्रिय विकल्प है। इस कोमल लेकिन शक्तिशाली आसन के लगातार अभ्यास से शरीर और मन दोनों में अधिक लचीलापन आता है।

आनंद बालासन मुद्रा करने का सही तरीका

आज, दुनिया भर में योग के विभिन्न रूपों में आनंद बालासन का व्यापक रूप से अभ्यास किया जाता है। तो आइए जानते हैं आनंद बालासन करने की सही विधि Happy baby pose मै इस प्रकार है।

  1. आनंद बालासन मुद्रा को ठीक से करने के लिए सबसे पहले योगा मैट पर शवासन में लेट जाएं।
  2. अपने घुटनों के बल झुककर अपनी पीठ के बल लेट जाएं और अपने पैरों को धीरे से अपनी छाती की ओर लाएं।
  3. सिर और कंधों को जमीन के समानांतर झुकाएं।
  4. अपने हाथों से अपने पैरों के बाहरी हिस्से को पकड़ें।
  5. सुनिश्चित करें कि आपके दोनों पैरों पर एक मजबूत पकड़ है।
  6. एक बार जब आप दोनों पैरों को पकड़ लेते हैं, तो अपने कूल्हों को धीरे से अपनी कोहनी से दोनों तरफ धकेल कर खोलने की कोशिश करें, अपने टेलबोन को फर्श पर मजबूती से टिकाए रखें।
  7. अपने पैरों को 90 डिग्री के कोण पर मोड़ते हुए धीरे-धीरे अपने पैरों को ऊपर की ओर छत की ओर उठाएं।
  8. जैसे ही आप साँस छोड़ते हैं, अपने पैरों के तलवों से नीचे दबाए।
  9. और धीरे-धीरे उन्हें प्रत्येक हाथ से अपनी ओर खींचे।
  10. इस आसन में 30 सेकंड से 1 मिनट तक रहें।
  11. प्रारंभिक स्थिति में आने के लिए धीरे-धीरे अपने पैरों को जमीन पर नीचे करें, अपनी बाहों को नीचे की ओर मोड़ें और शवासन में लेट जाएं।

आनंद बालासन मुद्रा करने के फायदे

Happy baby pose, एक योग मुद्रा है जो कई शारीरिक और मानसिक लाभ प्रदान करती है। यह आसन पीठ के निचले हिस्से में लचीलापन बढ़ाते हुए आंतरिक जांघ की मांसपेशियों, ग्लूट्स और हैमस्ट्रिंग को फैलाने में मदद करता है।

♦ यह मुद्रा मन को शांत करने और तनाव के स्तर को कम करने के लिए जानी जाती है।

♦ आनंद बालासन मुद्रा का नियमित अभ्यास कूल्हे क्षेत्र में तनाव को कम करने में मदद करता है और पूरे शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार करता है।

♦ मुद्रा छाती और फेफड़ों को खोलकर श्वास पैटर्न को नियंत्रित करने में भी मदद करती है।

♦ यह पाचन तंत्र को उत्तेजित करता है जो कब्ज से राहत दिलाने में मदद करता है।

♦ शरीर और मन दोनों पर इसके आरामदेह प्रभाव के कारण इस आसन को बेहतर नींद की गुणवत्ता को बढ़ावा देने से जोड़ा गया है।

समय-समय पर बनने वाले किसी भी तनाव या चिंता को दूर करके व्यस्त दिन को समाप्त करने का यह एक शानदार तरीका है। कुल मिलाकर, आनंद बालासन मुद्रा को अपनी दिनचर्या में शामिल करने से जीवन की बेहतर गुणवत्ता के लिए विश्राम को बढ़ावा देने के साथ महत्वपूर्ण शारीरिक स्वास्थ्य लाभ मिल सकते हैं।

आनंद बालासन मुद्रा करते समय बरती जाने वाली सावधानियां

आनंद बालासन मुद्रा Happy baby pose के अभ्यास के दौरान कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए।

  • सबसे पहले, इस मुद्रा से बचना महत्वपूर्ण है यदि आपने हाल ही में अपने कूल्हे, घुटने या टखने की कोई सर्जरी या चोट की है।
    यदि आपको मुद्रा करते समय कोई दर्द महसूस होता है, तो तुरंत रुकना और योग प्रशिक्षक से परामर्श करना आवश्यक है।
  • आनंद बालासन मुद्रा के दौरान उचित शरीर संरेखण बनाए रखना महत्वपूर्ण है। इस मुद्रा में पीठ के बल लेटकर घुटनों को मोड़कर छाती की ओर लाना शामिल है। अपने पैरों पर बेहतर पकड़ पाने के लिए अपने सिर या कंधों को जमीन से ऊपर उठाना आकर्षक हो सकता है, लेकिन इससे आपकी गर्दन की मांसपेशियों में खिंचाव आ सकता है। इसलिए, हमेशा अपनी पीठ को फर्श पर सपाट रखने की कोशिश करें और अपनी गर्दन की मांसपेशियों को आराम दें।
  • उच्च रक्तचाप से पीड़ित लोगों को यह मुद्रा किसी की देखरेख में करनी चाहिए क्योंकि ऐसे मामलों में पैरों को हृदय के स्तर से ऊपर उठाने से चक्कर या बेहोशी आ सकती है।
  • शुरुआती लोगों के लिए यह सलाह दी जाती है कि वे इस आसन को किसी विशेषज्ञ के मार्गदर्शन में सीखें ताकि उन्हें पता चले कि आनंद बालासन मुद्रा करते समय उन्हें कितनी शक्ति लगानी है। इन सावधानियों को ध्यान में रखते हुए और उचित मार्गदर्शन के साथ नियमित रूप से अभ्यास करने से आपको बिना किसी चोट या परेशानी के इस मुद्रा का अधिकतम लाभ उठाने में मदद मिलेगी।

आनंद बालासन से उन्नत आसन

आनंद बालासन Happy baby pose के उन्नत रूप हैं जो इस पहले से ही लाभकारी मुद्रा को नई ऊंचाइयों तक ले जा सकते हैं।

ऐसा ही एक रूप है एक्सटेंडेड हैप्पी बेबी पोज़, जिसमें एक पैर को बढ़ाया जाता है जबकि दूसरे पैर को पकड़ कर रखा जाता है। यह संशोधन हिप फ्लेक्सर्स और बाहरी कूल्हों, चुनौतीपूर्ण संतुलन और स्थिरता में तनाव को बढ़ाने में मदद करता है।

extended happy baby pose
google

इन उन्नत आसनों को अपने नियमित योग अभ्यास में शामिल करने से आप अपने आराम क्षेत्र से बाहर निकल सकते हैं, शरीर और मन दोनों के लिए अधिक महत्वपूर्ण लाभ प्रदान करने के लिए एक ही समय में लचीलापन, शक्ति, संतुलन और विश्राम को बढ़ावा दे सकते हैं।

निष्कर्ष

अंत में, आनंद बालासन मुद्रा हर योग अभ्यास के लिए एक आवश्यक मुद्रा है। यह आसन आपके कूल्हों, जांघों और पीठ के निचले हिस्से की मांसपेशियों को खींचने और मजबूत करने में मदद करता है। यह विश्राम को बढ़ावा देता है और इन क्षेत्रों से तनाव मुक्त करके तनाव के स्तर को कम करता है। इस मुद्रा से अधिक लाभ उठाने के लिए, अपनी सांस पर ध्यान केंद्रित करना महत्वपूर्ण है क्योंकि आप इसे कई गहरी श्वास और निकास के लिए रखते हैं।आप पा सकते हैं कि कंबल या बोल्स्टर जैसे प्रॉप्स का  उपयोग इस मुद्रा में आपके शरीर को सहारा दे सकता है और इसके लाभों को और भी बढ़ा सकता है।

कुल मिलाकर, आनंद बालासन मुद्रा को अपनी दैनिक योग दिनचर्या में शामिल करना शारीरिक स्वास्थ्य और मानसिक स्पष्टता दोनों में सुधार करने का एक शानदार तरीका हो सकता है, और विश्राम और कायाकल्प का अवसर प्रदान करता है।

किसी भी आसन का अभ्यास करने से पहले उसकी सही विधि जान लेना आवश्यक है अन्यथा आपको आसन का पूरा लाभ नहीं मिल पाएगा।

Treatment peptic ulcer disease

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *