वीरभद्रासन कैसे करे?

भारत में कई वर्षों से योगासनों का प्रचार और प्रसार किया जाता रहा है। योग की कला का विकास सबसे पहले भारत में हुआ था। अतीत में, महान योग चिकित्सकों, महान योगी पुरुषों ने प्रकृति के आधार पर, धार्मिक कहानियों के पात्रों के साथ-साथ सृष्टि में विभिन्न चीजों के आधार पर योग बनाया। इसमें महान योगी पुरुषों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। आइए जानें वीरभद्रासन कैसे करे? हिंदी में

ऐसी ही एक सीट है वीरभद्रासन। इस आसन का वर्णन हिंदू पौराणिक कथाओं में मिलता है। भगवान शिव के कैलाश पर्वत के द्वारपाल सबसे पहले इस रूप में जमीन पर प्रकट हुए और उनका नाम वीरभद्रासन रखा गया।

अतीत में, इस सीट का इस्तेमाल अक्सर युद्ध की तैयारी या बच्चों को प्रशिक्षण देने के लिए किया जाता था। यह आसन शरीर को ताकत देता है इसलिए युद्ध में इस आसन का अभ्यास किया जाता था।

virbhadrasana 5

वीरभद्रासन क्या है?

वीरभद्रासन नाम में ही बहुत कुछ समाया हुआ है। वीर – योद्धा, भद्र – श्वेत, आसन – स्थिति। वीरभद्रासन को योद्धा का आसन भी कहा जाता है।

वीरभद्रासन को अंग्रेजी में  worrior pose  कहते हैं। आइए जानें वीरभद्रासन कैसे करे? और इसके फायदे इस प्रकार हैं →

वीरभद्रासन करने का सही तरीका

  • सबसे पहले ताड़ासन (पर्वत मुद्रा) (mountain pose)  में योगा मैट पर खड़े हो जाएं।
  • दोनों पैरों को 3-4 फीट की दूरी पर रहने दें।
  • दाएं पैर को 90 डिग्री बाहर की ओर और बाएं पैर को 15 डिग्री घुमाएं।
  • क्या दाहिने पैर की एड़ी बाएं पैर के केंद्र में है? इस पर ध्यान दें।
  • दोनों हाथों को ऊपर उठाकर सीधे कंधे के स्तर तक ले आएं। सुनिश्चित करें कि दोनों हाथ जमीन के समानांतर हों।
  • दाहिने पैर को घुटने से थोड़ा मोड़ें और मन को दायीं ओर सुखाने की कोशिश करें।
  • अपनी बाहों को और भी ऊपर खींचने की कोशिश करें। (जितना संभव हो तनाव लें)
  • कमर को ऊपर और नीचे की ओर धकेलने का प्रयास करें।
  • यह आसन कुछ समय के लिए स्थिर होना चाहिए। चेहरे पर खुशी का भाव होना चाहिए। सांस लेना जारी रखें।
  • सांस छोड़ते हुए दोनों हाथों को नीचे लाएं और सामान्य स्थिति में लौट आएं।
  • इसी तरह बायीं ओर आसन का अभ्यास करें।

विरभद्रासन – Virbhadrasana in marathi

 

वीरभद्रासन करने के फायदे

♦ शरीर संतुलित रहता है और काम करने की क्षमता रखता है।

♦ हाथ, पैर, रीढ़ की हड्डी में लचीलापन आता है और वे अधिक कुशल हो जाते हैं।

♦ कम समय में तनाव कम करने के लिए यह बहुत ही उपयोगी आसन है।

♦ यह आसन उन लोगों के लिए बहुत उपयोगी है जो हमेशा बैठे रहते हैं और काम करते हैं।

♦ ताकत के साथ-साथ आत्मविश्वास बनाने में मदद करता है।

♦ एड़ी, कूल्हों, घुटनों को लचीला बनाता है।

 

वीरभद्रासन करते समय बरती जाने वाली सावधानियाँ

  1. यदि घुटने या रीढ़ की हड्डी में कोई समस्या हो तो आसन करते समय प्रशिक्षक की सलाह से ही इसे करना चाहिए।
  2. अगर आपको हाल ही में कोई लंबी बीमारी हुई है तो आसन करते समय डॉक्टर से सलाह लें।
  3. इस आसन को आप गर्भावस्था के दौरान कर सकती हैं, अगर आप इस आसन को दूसरी या तीसरी तिमाही में करती हैं, तो आपको कई फायदे दिखाई देंगे, लेकिन आपको यह आसन दीवार के सहारे झुककर करना चाहिए। और आपको बैठते समय डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।
  4. यदि आप गठिया या दस्त से पीड़ित हैं, तो आसन न करें।

दोस्तों, आपने अपने जीवन में वीरभद्रासन का महत्व ऊपर के रूप में देखा है, इस लेख में हमने वीरभद्रासन को वीरभद्रासन करने की उचित विधि, लाभ और देखभाल को वीरभद्रासन – वीरभद्रासन मराठी में देखा है। आइए योग की सही विधि का उपयोग करके अपने शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाएं।

 

निष्कर्ष

अगर आप अपनी फिटनेस बढ़ाने का तरीका ढूंढ रहे हैं तो वीरभद्रासन करने पर विचार कर सकते हैं। ठीक से कवर किया गया, यह प्रतिकूल परिस्थितियों का एक बड़ा सामना करेगा। अगली बार जब आप कक्षा में हों, तो इस सीट को देखें और अपने प्रशिक्षक से पूछें कि क्या आप कोशिश कर सकते हैं।

किसी भी आसन का अभ्यास करने से पहले उसकी उचित विधि जान लेना आवश्यक है, अन्यथा आपको आसन का पूरा लाभ नहीं मिल पाएगा।

Advanced Virabhadrasana poses to deepen your experience

Leave a Comment