विरासन कैसे करे ?

विरासन बैठकर किए जानेवाले आसन के प्रकारों में से एक है। आइए दोस्तों जानते है , विरासन कैसे करे ?

विरासन
from google

विरासना क्या है?

जब विरासन को दो भागों में विभाजित किया जाता है, तो वीर और आसन दो भागों में आते हैं। वीर का अर्थ है “बहादुर” (वीर योद्धा), और आसन का अर्थ है “बैठना”। जब इन दोनों शब्दों को मिला दिया जाता है, तो इसका अर्थ है कि वीर योद्धा जिस आसन पर बैठते हैं।

विरासना की विशिष्ट संरचना साधक को अधिक दृढ़, अटल बनाती है। विरासन को अंग्रेजी में हीरो पोज (Hero pose) कहते हैं।

विरासन देखने में बहुत आसान आसन है लेकिन उसके लिए जांघों, टखनों और नितंबों की मांसपेशियों का लचीला होना जरूरी है और इसके लिए नियमित अभ्यास की आवश्यकता होती है

विरासना  की विधि

  • विरासन करते समय सबसे पहले चटाई को जमीन पर रखें और सीधे पैरों को फैलाकर बैठ जाएं।
  • शरीर को दाहिनी ओर, बाएँ पैर को बाएँ नितंब की ओर झुकाएँ और शरीर को बायीं ओर झुकाना चाहिए और दाहिना पैर नितम्बों के दाहिनी ओर रखना चाहिए।
  • घुटनों को समायोजित किया जाना चाहिए ताकि पीठ और पैरों के बीच की दूरी स्वचालित हो।
  • नितम्ब दोनों टांगों के बीच में यानि नीचे की चटाई पर और पोटरी को मोड़कर रखना चाहिए।
  • पैर की उंगलियों को बाहर की और से रखनी चाहिए। और एड़ियों से घुटनों को सहारा देना चाहिए।
  • गहरी सांस लें और श्वास अंदर लें, रीढ़ को सीधा रखें और शरीर को पीछे की ओर झुकाएं।
  • विरसन का अभ्यास 30 सेकंड से 1 मिनट तक करना चाहिए।
  • फिर धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए सामान्य अवस्था में लौट आ
  • विरासन 2-3 बार करना चाहिए।

To read more in english visit – sillypharma.com

विरासना के लाभ

♦ अगर नियमित रूप से किया जाए तो घुटने की जकड़न उन्हें लचीला बना सकती है।

♦ कमर और पीठ को सीधा रखने से रीढ़ की हड्डी मजबूत होती है।

♦ पैर में टेढ़ापन, हाई ब्लड प्रेशर, अस्थमा की समस्या पर यह आसन जादू की तरह काम करता है|

 

विरासन  करते समय किन बातों का ध्यान रखें: वो विरासन कैसे करे ?  इस लेख मै आगे दिया गया है

विरासन करते समय बरती जाने वाली सावधानियाँ

  1. विरासन करने से पहले पेट को साफ करना चाहिए।
  2. विरासन सुबह करना चाहिए लेकिन अगर किसी कारणवश सुबह नहीं हो पाता है तो शाम को किया जा सकता है। लेकिन आसन ग्रहण करने से 4-5 घंटे पहले कुछ भी नहीं खाना चाहिए।
  3. अगर कोई दिल की बीमारी से पीड़ित है तो आसन नही करे , किसी ट्रेनर से सलाह लेने के बाद ही करें।

निष्कर्ष

यदि आप अपनी फिटनेस बढ़ाने का तरीका ढूंढ रहे हैं, तो आप विरासन करने का विचार कर सकते हैं। जब विरासन ठीक से किया जाता है, तो लचीलेपन में सुधार करते हुए ताकत और सहनशक्ति बनाने का यह एक प्रभावी और सुरक्षित तरीका हो सकता है। अगली बार जब आप कक्षा में हों, तो इस आसन को देखें और अपने प्रशिक्षक से पूछें कि क्या आप कोशिश कर सकते हैं।

किसी भी आसन का अभ्यास करने से पहले उसकी उचित विधि जान लेना आवश्यक है|नहीं तो आपको आसन का पूरा फायदा नहीं मिलता।

माहिती मराठीत जाणून घेण्यासाठी विजिट करा विरासन – Virasana

1 thought on “विरासन कैसे करे ?”

Leave a Comment