वज्रासन हिन्दी मै – vajrasana pose in hindi

वज्रासन क्या है?

वज्रासन के बटने पर वज्र और आसन इस दो भागों में बट जाते हैं। वज्रासन को धारण करते समय आपके पैरों की पकड़ वज्र की तरह टाइट होती है, इसलिए इसे वज्रासन के नाम से जाना जाता है।

वज्र इंद्र का मुख्य हथियार था।

वज्र बलवान और शक्तिशाली होता है। वज्रासन एकमात्र आसन है जिसे हम भोजन के बाद कर सकते हैं। वज्रासन सभी आसनों में सबसे सरल और प्रभावशाली आसन है, इसे हम किसी भी उम्र में कर सकते हैं। आइए दोस्तों जाने वज्रासन हिन्दी मै – vajrasana pose in hindi

vajrasana

वज्रासन करने की विधि

  • सबसे पहले दोनों पैरों को फैलाकर बैठ जाएं और हाथों को नितंबों की तरफ रखें।
  • शरीर को बायीं ओर झुकाकर शरीर को बायें हाथ पर लादें, दाहिने पैर के पंजे को पकड़ें, पैर को घुटने पर मोड़ें और पंजा को इस प्रकार करो की आसमान की ओर आ जाए।
  • यही क्रिया शरीर को दाहिनी ओर झुकाकर, शरीर का भार बाएँ हाथ पर रखकर, बाएँ पैर के पंजे को पकड़कर और पैर को घुटने की ओर मोड़कर करना चाहिए ताकि पंजा आकाश की ओर आ जाए।
  • इस पोजीशन में एड़ी को बाहर की तरफ और पंजों को अंदर की तरफ और नितंबों को एड़ियों के बीच रखें।
  • घुटनों को संरेखित किया जाना चाहिए और हाथों की हथेलियों को घुटनों पर या नमस्कार की स्थिति में रखा जाना चाहिए।
  • रीढ़ को सीधा रखें।
  • पेट को हल्का सा अंदर भरकर सांस अंदर लें।
  • इस आसन को करते हुए शुरुआत में कुछ सेकेंड के लिए इस आसन को करें। नियमित अभ्यास से आप इस आसन को 1-3 मिनट या उससे अधिक समय तक कर सकते हैं।
  • आसन पर लौटते समय शरीर के भार को साथ-साथ उठाएं, शरीर को दाहिनी ओर मोड़ें, बाएँ पैर को सीधा करें और फिर दाएँ पैर को सीधा करें।

The Ultimate Guide To Doing Vajrasana For Beginners.

वज्रासन के लाभ

♦  गैस से होने वाले कई रोग वज्रासन से दूर हो जाते हैं।

♦ वज्रासन के नियमित अभ्यास से पेट में बनने वाले पाचन तंत्र की मात्रा बढ़ती है, जिससे पेट की कार्यक्षमता बढ़ती है और पाचन में मदद मिलती है।

♦ वज्रासन करने से पैरों, जननांगों और घुटनों का स्वास्थ्य बढ़ता है और वे मजबूत होते हैं।

 

वज्रासन करते समय बरती जाने वाली सावधानियाँ वज्रासन हिन्दी मै (vajrasana pose in hindi) में बताई गई हैं।

वज्रासन करते समय बरती जाने वाली सावधानियाँ

  1. जो अपने पैरों को घुटनों पर मोड़कर सीधे बैठने में असमर्थ हैं , उसे अपने घुटनों पर खड़ा होना चाहिए, अपने पैर की उंगलियों को अंदर और एड़ी को बाहर रखना चाहिए, और नितंबों को एड़ी के बीच रखना चाहिए। ताकि आपको भुगतना ना पड़े।
  2. वज्रासन शरीर के लिए यथासंभव लंबे समय तक करना चाहिए और ज्यादा तनाव नहीं लेना चाहिए।
  3. पहले तो इस आसन में थोड़ी परेशानी होती है, लेकिन यदि आप नियमित रूप से इसका अभ्यास करेंगे तो आप इसे आसानी से प्राप्त कर लेते हैं।

निष्कर्ष

यदि आप अपनी फिटनेस बढ़ाने का तरीका ढूंढ रहे हैं, तो आप वज्रासन करने का विचार कर सकते हैं। जब वज्रासन ठीक से किया जाता है, तो लचीलेपन में सुधार करते हुए ताकत और सहनशक्ति बनाने का यह एक प्रभावी और सुरक्षित तरीका हो सकता है। अगली बार जब आप कक्षा में हों, तो इस आसन को देखें और अपने प्रशिक्षक से पूछें कि क्या आप कोशिश कर सकते हैं।

किसी भी आसन का अभ्यास करने से पहले उसकी उचित विधि जान लेना आवश्यक है ,नहीं तो आपको आसन का पूरा फायदा नहीं मिलता।

वज्रासनाबद्दल मराठीत जाणून घेण्यासाठी विजिट करा वज्रासन – vajrasana in marathi

1 thought on “वज्रासन हिन्दी मै – vajrasana pose in hindi”

Leave a Comment