त्रिकोणासन की उचित विधि, सावधानिया और इसके लाभ

त्रिकोणासान करते समय हमारे शरीर का आकार गणितीय त्रिभुज जैसा हो जाता है, इसलिए इस आसन को त्रिकोणासन कहा जाता है।त्रिकोणासन एक ऐसी मुद्रा है जो शरीर को एक ही समय में तीन अलग-अलग कोणों में घुमाती है।और शरीर के अच्छे कार्य को बनाए रखने में मदद करता है।

बैठे काम करने के कारण आजकल मोटापे और कमर से जुड़ी कई समस्याएं बढती जा रही हैं।गतिहीन काम कई पाचन समस्याओं का कारण बनता है। त्रिकोणासान हमे इन सभी समस्याओं को दूर करने की अनुमति देता है।

इस लेख में हम त्रिकोणासन की उचित विधि, सावधानिया और इसके लाभ को देखेंगे।

trikonasan

त्रिकोणासन की विधि

  • सबसे पहले योगा मैट पर सतर्क मुद्रा में खड़े हो जाएं।
  • दोनों पैरों के बीच की दूरी तीन से चार फीट होनी चाहिए,या जहां तक ​​पैर फैला सके उतनी दूरी बनाकर रखें।
  • दाहिने पैर को 90 डिग्री दाहिनी ओर मोड़ें।
  • ऐसा करते समय इस बात का ध्यान रखें कि दाहिने पैर की एड़ी और बाएं पैर का आर्च एक सीध में हो।
  • यह सुनिश्चित करे की शरीर का वजन दोनों पैरों पर समान है या नही।
  • दोनों हाथों को कंधे के स्तर पर जमीन के समानांतर रखते हुए , धीरे-धीरे दादाहिने हाथ को दाहिने पैर के टखने पर या दाहिने पैर के पिछले हिस्से पर रखें।हिने हाथ को दायीं ओर जमीन पर टिकाएं और बाएं हाथ को कंधे के स्तर पर आकाश की ओर सीधा रखें।
  • शरीर बिना आगे झुके कमर के दायीं ओर जितना हो सके झुकता है,दाहिने हाथ को दाहिने पैर के टखने पर या दाहिने पैर के पिछले हिस्से पर रखें।
  • बाएँ हाथ को सीधा आकाश की ओर रखते हुए छाती की ओर तनाव लाये और आंख ऊपरी बाएं हाथ की हथेली पर होनी चाहिए।
  • आंख स्थिर रहनी चाहिए।दोनों घुटने कड़े और केंद्रित होने चाहिए।
  • सांस धीमी रखें और सांस लेने पर ध्यान दें।
  • फिर गहरी सांस लें और धीरे-धीरे शरीर को दाहिनी ओर उठाएं।और सामान्य स्थिति में लौट आएं।
  • फिर बाएं पैर को 90 डिग्री बायीं ओर मोड़ें और उपरोक्त क्रिया को दोहराएं।

त्रिकोणासान मराठीतून जाणून घेण्यासासाठी विजिट करा त्रिकोणासान – Trikonasana in marathi

त्रिकोणासन के लाभ

♦ सिट-अप्स पेट, पेल्विक और जांघ की चर्बी को कम करने में मदद करते हैं।

♦ छाती, घुटनों, बाहों, पैरों और टखनों को मजबूत करता है।

♦ जांघ, जोड़, मांसपेशियां, रीढ़ और बंदर की हड्डियां लचीली हो जाती हैं।

♦ त्रिकोणासन का नियमित अभ्यास वात रोग के कारण होने वाली परेशानी को कम करने में मदद करता है।और समय के साथ, यह बदलने की संभावना है।

♦ बेवजह का डर ऐसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है इसलिए यह शारीरिक और मानसिक संतुलन बनाए रखने में मदद करता है।

त्रिकोणासन करते समय बरती जाने वाली सावधानियाँ

  • गर्दन दर्द, कमर दर्द और दस्त से पीड़ित लोगों को यह आसन नहीं करना चाहिए।
  • लो ब्लड प्रेशर और साइटिका वाले लोगों को भी इस आसन को करने से बचना चाहिए ,या फिर किसी कोच की सलाह पर करें।
  • उच्च रक्तचाप वाले लोग बिना तनाव के इस आसन को अपने हाथों से ऊपर और नीचे कर सकते हैं।

श्वासोच्छ्वास पद्धती

  • आसन करते समय श्वास सामान्य होनी चाहिए।
  • सामान्य अवस्था में लौटते हुए गहरी सांस लेते हुए शरीर को वापस सामान्य अवस्था में लाएं।

 

निष्कर्ष

यदि आप अपनी फिटनेस बढ़ाने का तरीका ढूंढ रहे हैं, तो आप त्रिकोणासन करने का विचार कर सकते हैं। जब त्रिकोणासन ठीक से किया जाता है, तो लचीलेपन में सुधार करते हुए ताकत और सहनशक्ति बनाने का यह एक प्रभावी और सुरक्षित तरीका हो सकता है। अगली बार जब आप कक्षा में हों, तो इस आसन को देखें और अपने प्रशिक्षक से पूछें कि क्या आप कोशिश कर सकते हैं।

किसी भी आसन का अभ्यास करने से पहले उसकी उचित विधि जान लेना आवश्यक है ,नहीं तो आपको आसन का पूरा फायदा नहीं मिलता।

A Guide to Trikonasana – Simple and Easy

 

 

 

1 thought on “त्रिकोणासन की उचित विधि, सावधानिया और इसके लाभ”

Leave a Comment