आकर्ण धनुरासन के लाभ इन हिंदी

दोस्तों, हम इस लेख में हिंदी में आकर्ण धनुरासन के लाभ इन हिंदी के बारे मे जानेंगे।

 

aakarn dhanurasana 3

 

आकर्ण धनुरासन क्या है ?

उपसर्ग ‘आ ‘ का अर्थ है ‘ओर ‘ और ‘कर्ण’ का अर्थ है ‘कान’। ‘धनु’ का अर्थ है “धनुष”. आकर्ण धनुरासन करते समय आपके शरीर का आकार धनुष पर फैला हुआ तीर जैसा दिखता है, इसलिए इसे आकर्ण धनुरासन कहा जाता है।

आकर्ण धनुरासन बनाने की विधि

  • अकर्ण धनुरासन करते समय सबसे पहले अपने पैरों को योगा मैट पर फैलाएं और शांति से बैठ जाएं।
  • बाएं पैर को घुटने पर मोड़ें और दाहिने पैर की जांघ पर रखें।
  • बाएं हाथ को दाहिने पैर के अंगूठे को पकड़ना चाहिए और दाहिने हाथ से बाएं पैर के अंगूठे को दाहिनी जांघ पर रखना चाहिए।
  •  बाएं पैर को थोड़े तनाव के साथ दाएं कान के पास लगाएं। (जितना हो सके तनाव लें, ज्यादा तनाव न लें)
  • इस बैठने की स्थिति में यथासंभव लंबे समय तक प्रतीक्षा करें।
  • अब टखनों को नीचे करें, बाजुओं को नीचे करें और कुछ देर शांत बैठें।
  • फिर दूसरी तरफ भी यही आसन करें।

 

इस लेख में आकर्ण धनुरासन के लाभ इन हिन्दी के बारे में बताया गया है ।

आकर्ण धनुरासन के लाभ

♦ धनुष को खींचते समय हाथों की मांसपेशियों को खींचने से मांसपेशियां मजबूत होती हैं।

♦ पैरों, पीठ, कमर और छाती पर का तनाव उन्हें और मजबूत बनाता है।

♦ पेट के अंगों का अच्छी तरह से व्यायाम किया जाता है।

♦ अस्थमा और खांसी के लक्षणों को कम करता है।

 

To read more in english visit sillypharma.com

 

सांस लेने की विधि

  • गहरी सांस लें और अपने पैरों को कानों के पास लाएं।
  • इस आसन स्थिति में होते समय श्वास नियमित होनी चाहिए।
  • फिर सांस छोड़ते हुए सामान्य अवस्था में लौट आएं।

 

आकर्ण धनुरासन करते समय बरती जाने वाली सावधानियां

  1.  आकर्ण धनुरासन बहुत कठिन है, इसलिए इसे प्रशिक्षक की सलाह से सावधानी से करना चाहिये ।
  2. आसन करते समय जल्दबाजी न करें, जितना हो सके उतना तनाव दें, ज्यादा तनाव न दें।
  3. हालांकि शुरुआती आसन के दौरान पैर का अंगूठा दाहिने कान के करीब नहीं आता है, लेकिन नियमित अभ्यास से यह संभव हो जाएगा।

 

निष्कर्ष

यदि आप अपनी फिटनेस बढ़ाने का तरीका ढूंढ रहे हैं, तो आप आकर्ण धनुरासन करने का विचार कर सकते हैं। जब आकर्ण धनुरासन ठीक से किया जाता है, तो लचीलेपन में सुधार करते हुए ताकत और सहनशक्ति बनाने का यह एक प्रभावी और सुरक्षित तरीका हो सकता है। अगली बार जब आप कक्षा में हों, तो इस आसन को देखें और अपने प्रशिक्षक से पूछें कि क्या आप कोशिश कर सकते हैं।

किसी भी आसन का अभ्यास करने से पहले उसकी उचित विधि जान लेना आवश्यक है ,नहीं तो आपको आसन का पूरा फायदा नहीं मिलता।

 

आकर्ण धनुरासन माहिती (Aakarn dhanurasan in marathi)

1 thought on “आकर्ण धनुरासन के लाभ इन हिंदी”

Leave a Comment